MENU
Breaking News
Breaking News Live T.V.

पूर्वांचल

चंदौली

सेंट् अल हनीफ एजुकेशनल सेंटर शौर्य दिवस पर चर्चा

सेंट् अल हनीफ एजुकेशनल सेंटर सेमरा चंदौली में शौर्य दिवस पर चर्चा करते हुए सीआरपीएफ के द्वारा किए गए सराहनीय कार्यों का वर्णन करते हुए तथा देश भक्ति भावनाओं को उकेरते हुए नरेंद्र पाल सिंह कमांडेंट सीआरपीएफ ने डिफेंस के महत्व पर चर्चा किया। उन्होंने बच्चों को वर्तमान बॉर्डर के हालात का चर्चा करते हुए ड्रेस कोड के अंतर को समझाया और बच्चों को एक पेशे के तौर पर फौज में जाने की प्रेरणा दी ।उन्होंने अपने संबोधन में सीआरपीएफ के विशेष योगदान की चर्चा करते हुए कहा कि सीमा से लेकर नक्सलवाद प्रभावित क्षेत्र, संसद की सुरक्षा एवं वी वीआईपी की सुरक्षा में इस फोर्स का योगदान रहता है।

तुलसी गुप्ता कक्षा 11 की छात्रा ने अपनी जिज्ञासा व्यक्त करते हुए इस फोर्स में भर्ती होने की प्रक्रिया तथा योगदान के बारे में पूछा तथा अदीबा ने ब्लैक कमांडो के बारे में पूछा जिसके बारे में उन्होंने विस्तृत वर्णन करते हुए विद्यालय एवं बच्चों की भूरी भूरी प्रशंसा की। इस कार्यक्रम में के डीत्रिपाठी ,उपांशु सिन्हा, मुसाहीब अली , इम्तियाज अहमद, सुजीत गुप्ता, आशुतोष श्रीवास्तव, आसिफ अली , अमीत सिन्हा आदि लोग उपस्थित रहे ।धन्यवाद ज्ञापन विद्यालय के प्रबंध निदेशक हाजी वसीम अहमद तथा संचालन बी राम ने किया।

 

मिर्ज़ापुर

अमर शहीद रवि सिंह के घर सांत्वना देने विनीत सिंह

जिला पंचायत से अमर शहीद द्वार एवं स्मारक बनवाने की घोषणा

बारामुला में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए रवि सिंह के जिगना स्थित गौरा गांव परिजनों को सांत्वना देने पूर्व एमएलसी श्याम नारायण सिंह उर्फ विनीत सिंह पहुंचे। उन्होंने अमर शहीद रवि सिंह की शहादत को नमन किया। इस मौके पर उन्होंने जिला पंचायत की तरफ से अमर शहीद रवि सिंह के याद में मनकठा गौरा मार्ग पर अमर शहीद के नाम पर एक गेट तथा शहीद के अंत्येष्टि स्थल पर रामलीला मैदान में एक स्मारक भवन एवं मूर्ति लगवाने की घोषणा कि। इसके साथ ही मनकठा गौरा संपर्क मार्ग की टूटी सड़क को भी जिला पंचायत से मरम्मत करवाने की बात की।गौरतलब हो कि इस मौके पर उन्होंने जिला पंचायत के जेई को तुरंत प्राक्कलन बनाकर जल्द से जल्द उक्त कार्य को शुरू करवाने का निर्देश भी दिया ।साथ ही दोनों स्थानों पर लोगों के साथ जाकर स्थलीय निरीक्षण भी किया। पूर्व एमएलसी विनीत सिंह ने कहा कि अमर शहीद रवि सिंह जी के लिए जितना भी किया जाए कम है। उनकी शहादत पर पूरे देश पर गर्व है। इस मौके पर उनके साथ जिला पंचायत सदस्य वसीम अहमद जिला पंचायत सदस्य सुरेश बिंद संजय सिंह गहरवार आयुष सिंह आदि लोग भी उपस्थित थे।

 

जौनपुर

जैतपुरा दोहरे हत्याकांड के आरोपित विवेक सिंह 'कट्ट

वाराणसी जनपद के जैतपुरा थाना क्षेत्र में अधिवक्ता समेत दो लोगों की हत्या में फरार चल रहे आरोपित विवेक सिंह कट्टा ने सोमवार को जौनपुर के एससी/एसटी कोर्ट में एक पुराने मामले में समर्पण कर दिया। अदालत ने उसे न्यायिक अभिरक्षा में लेकर जेल भेज दिया। बतादें कि बीते 28 अगस्त को जैतपुरा थाना क्षेत्र के चौकाघाट स्थित काली मंदिर के समीप पूर्वाह्न में अज्ञात बाइक सवार बदमाशों ने हुकुलगंज निवासी अधिवक्ता अभिषेक सिंह 'प्रिंस' समेत दो लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। इस घटना में एक व्यक्ति भी गंभीर रूप से घायल हो गया था। इस मामले में पुलिस ने शिवपुर निवासी विवेक सिंह कट्टा समेत कई लोगों को आरोपित बनाया था। तभी से वह फरार चल रहा था। इस बीच पुलिस के बढ़ते दबाव को देखते हुए आरोपित विवेक सिंह ने जौनपुर जनपद के एक पुराने एससी/एसटी के मामले में पुलिस को चकमा देते हुए समर्पण कर जेल चला गया।

बतातें चलें कि मारपीट व आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त होने के कारण लोहगाजर (जौनपुर) निवासी विवेक सिंह शिवपुर थाना क्षेत्र के लक्ष्मणपुर इलाके में किराये के मकान में रह रहा है। उसे यूपी कालेज से वर्ष 2007 में निष्कासित कर दिया गया था। इस दौरान विवेक सिंह के खिलाफ कई थानों में मुकदमा भी दर्ज हुआ।

इलाहाबाद

यूपी बार कौंसिल चेयरमैन के दिए गए बयान पर इलाहाबाद

इलाहाबाद मेरठ की दुरी ज्यादा है अगर मेरठ में नया बेंच खुलेगा तो आम जनता को फायदा होगा। हरिशंकर सिंह

एशिया के सबसे बड़े हाईकोर्ट, इलाहाबाद हाईकोर्ट में बेंच के बंटवारे को लेकर बीते कई सालों से विवाद चल रहा है।कभी चुनावी मौसम में राजनीतिक दलों द्वारा बेंच के बंटवारे की बात कही जाती है। तो कभी क्षेत्रीय अधिवक्ताओं द्वारा बांटने की मांग उठती रही है। वहीं एक बार फिर हाईकोर्ट के बेंच के बंटवारे की मांग के खिलाफ अधिवक्ता सड़क पर उतर आए हैं।

लंबे समय से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाई कोर्ट की बेंच बनाए जाने की मांग उठ रही है। जिसका विरोध इलाहाबाद उच्च न्यायालय के अधिवक्ताओं द्वारा किया जाता रहा है। अभी भी लगातार इलाहाबाद उच्च न्यायालय के अधिवक्ता इस बात पर अड़े हुए हैं कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय कि अन्य और कोई बेंच नहीं बनाई जानी चाहिए। इस मुद्दे पर राजनीति भी खूब जम के होती है। मौजूदा यूपी बार काउंसिल अध्यक्ष हरिशंकर सिंह के दिए गए बयान पर इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ता बार के अध्यक्ष के खिलाफ ही आवाज बुलंद कर रहे हैं।

गौरतलब है कि बीते दिनों एक बयान में यूपी बार के अध्यक्ष हरिशंकर सिंह ने पश्चिमी यूपी में बेंच बनाये जाने का समर्थन करते हुए बयान दिया कि कोर्ट की एक और बेंच होनी चाहिए। उनके इस बयान पर इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ताओं ने भयंकर आक्रोश देखने को मिल रहा है। इलाहाबाद हाईकोर्ट के नाराज अधिवक्ताओं ने अध्यक्ष हरिशंकर सिंह के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और उनका पुतला हाईकोर्ट के बाहर जलाया और मांग करते हुए कहा कि हरिशंकर सिंह अपने दिए गए बयान को वह वापस लें माफी मांगे।

बेंच बनाना राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री का क्षेत्राधिकार है ना कि यूपी बार कौंसिल का, मिडिया के पुछे गयें सवाल पर कहा बेंच खुलने से हमें कोई परेशानी नहीं

क्लाउन टाइम्स ने जब उत्तर प्रदेश बार कौंसिल के अध्यक्ष हरिशंकर सिंह से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि पिछले दिनों मैं मेरठ में वकीलों की अनुशासन समिति की सुनवाई करने के लिए गया था तो वहां पर मौजूद मीडिया द्वारा पूछे गए सवाल में कि उत्तर प्रदेश में नया बेंच खुल जाए तो आपको क्या परेशानी है। हमने कहा हमें कोई परेशानी नहीं है क्योंकि यह काम तो राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के क्षेत्राधिकार का है ना कि उत्तर प्रदेश बार कौंसिल के चेयरमैन के क्षेत्राधिकार का। मिडिया ने कहा कि इलाहाबाद और मेरठ की दुरी बहुत है। तो मैंने कहा अच्छी तो बात है यहां नया बेंच खुल जायेगा तो आम जनता को सहायता मिलेगी। हमने तो आम जनता के हित की बात कहीं है। अगर कोई विरोध कर रहा है तो मैं क्या करूं।

अपना प्रदेश

देश/विदेश

खेल

आईपीएल के ऐसे बल्लेखबाज जिन्हों ने जड़े हैं रिकॉर्

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) इस बार 19 सितंबर से यूएई की सरजमीं पर शुरू होने को है। इंडियन प्रीमियर लीग का नाम सुनते ही दिलोदिमाग में एक मंजर सा बन जाता है जिसमें सिर्फ चौकों और छक्‍कों की बरसात देखने को मिलती है। सभी देशी और विदेशी बल्‍लेबाज, ऑलराउंडर खिलाडी अपनी छमता से बढकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन मैदान में करते हैं और दर्शकों को मनोरंजित करते हैं। लंबे-लंबे छक्‍कों और बेहतरीन प्रतिभा के इस खेल के महापर्व का सभी को इंतजार रहता है। हालांकि, दर्शक इस बार टीवी और स्मार्टफोन के जरिए ही बड़ी हिट्स का लुत्फ उठा पाएंगे, क्योंकि कोरोना वायरस महामारी की वजह से आइपीएल 2020 में कम से कम शुरुआत में दर्शकों को स्टेडियम आने की अनुमति नहीं है। कुछ ऐसे खिलाडी जो आइपीएल के 12 के इतिहास में सबसे ज्यादा छक्के जड़े हैं। इन 10 खिलाड़ियों ने मिलकर आइपीएल में 2017 छक्के ठोके हैं। अकेले वेस्टइंडीज के तूफानी बल्लेबाज क्रिस गेल 300 से ज्यादा छक्के आइपीएल में जड़ चुके हैं। इतना ही नहीं, वे आइपीएल के इतिहास में सबसे ज्यादा छक्के जड़ने वाले इकलौते बल्लेबाज हैं। क्रिस गेल ने अब तक खेले आइपीएल के 125 मैचों में 326 छक्के जड़े हैं। एक पारी में भी सबसे ज्यादा 17 छक्के लगाने का उनका रिकॉर्ड है। इंडियन प्रीमियर लीग में सबसे ज्यादा छक्के मारने वालों की इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर साउथ अफ्रीकाई दिग्गज बल्‍लेबाज एबी डिविलियर्स हैं, जिन्होंने 154 मैचों में 212 छक्के जड़े हैं। लिस्ट में तीसरा नंबर महेंद्र सिंह धोनी का आता है, जिन्होंने अब तक आइपीएल के इतिहास में 209 छक्के जड़े हैं। एमएस धौनी आइपीएल में सबसे पहले 200 छक्के पूरे करने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी हैं, जबकि 200 या इससे ज्यादा छक्के उनके अलावा डिविलियर्स और क्रिस गेल ने जड़े हैं। सिक्‍सर किंग की लिस्‍ट में रोहित शर्मा, भारत के एमएस धोनी से ज्यादा पीछे नहीं हैं, लेकिन वे अभी तक 188 मैचों में 194 छक्के जड़ पाए हैं।

राजनीति

द एंजल क्रिएशन भोजपुरी फिल्म की अभिनेत्री अंजना सि

वाराणसी के हुकुलगंज स्थित पेट्रोल पम्‍प के पास द एंजल क्रिएशन का उद्घाटन भोजपुरी फिल्म की अभिनेत्री अंजना सिंह ने फीता काट कर किया। इस अवसर पर उन्‍होंने नव युवक कलाकारों को टिप्‍स भी दिया। कहा कि भोजपूरी फिल्म को भी अब लोग पसंद करने लगे हैं। जहां दो दशक-पहले गंगा किनारे मोरा गांव, परदेशीया, नदीया जैसी फिल्म पूरे परिवार के साथ लोग बैठ कर देखते थे। आज वही दिन फीर लौट आया है। इस अवसर पर मुख्‍य अतिथि के रूप में भोजपूरी डायरेक्‍टर रवि सिन्‍हा, क्रिएशन के अधिस्‍ठाता दिनेश चौबे, मैनेजींग डायरेक्‍टर सोनी पाण्‍डेय, एक्‍टर, डांसर, कोरीयोग्राफर सोनू गुप्‍ता, डांस टिचर विनस और कई अन्‍य गणमान्‍य लोग भी उपस्थित रहे।

जुर्म

इनामी किट्टू की रंगदारी लिस्ट में बनारस के 11 कारो

बनारस में जरायम की दुनियां में बहुत कम समय में आतंक का पर्याय बने 50 हजार के इनामी रौशन गुप्ता उर्फ किट्टू जिसे पुलिस से हुई मुठभेड़ में मौत के घाट उतार दिया गया। भले ही किट्टू की मौत के बाद उसकी रंगदारी से परेशान व्यापारियों ने राहत की सांस ली है। किट्टू की मौत के बाद उसके बैग से बरामद डायरी के पन्ने में रंगदारी लिस्ट में 6 सर्राफा कारोबारियों, 1 साड़ी व्यापारी, 1 चिकित्सक, 2 व्यापारी नेताओं सहित 1 वाहन शोरूम मालिक का नाम शामिल है। क्लाउन टाइम्स ने किट्टू की लिस्ट में शामिल व्यापारी नेता अजीत सिंह बग्गा से 1 लाख की वसूली का उल्लेख था, जिसे उन्होंने दो टूक शब्दों में इसे सिरे से खारिज करते हुए सफाई दिया कि लिस्ट में जो मोबाइल नंबर है वह पीएनयू क्लब के बलबीर सिंह बग्गा का है। व्यापारी नेता बग्गा ने सीधे बलबीर बग्गा को फोन लगाया जिन्होंने अपने साथ हुई किसी वसूली से इनकार किया। क्लाउन टाइम्स ने किट्टू की डायरी में शामिल सर्राफा कारोबारी राजीव अग्रवाल से ₹ 10 लाख की वसूली के बारे में उन्हें फोन लगाया तो उन्होंने ने भी किसी वसूली से इनकार किया और कहा कि उन्हीं के नाम के एक और सर्राफा कारोबारी हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आतंक का पर्याय बने किट्टू को शहर बनारस के चुनिंदा व्यापारियों और डाक्टरों से कुल मिलकर 49 लाख और 2 इनोवा कार की वसूली का लक्ष्य था। वाराणसी पुलिस के इनकाउंटर के बाद अब वाराणसी पुलिस किट्टू के रंगदारी की लिस्ट में शामिल सभी व्यापारियों और चिकित्सकों से बातचीत करके उन्हें भयमुक्त होनें का भरोसा देगी। इस बारे में एसएसपी अमित पाठक ने मीडिया को बताया कि किट्टू की डायरी के पन्ने की रंगदारी लिस्ट में शामिल किसी ने भी पुलिस से शिकायत नहीं की है। कुल मिलाकर आतंक का पर्याय बने कुख्यात अपराधी किट्टू को मौत के घाट उतारने वाले पुलिस के जवानों को उसके मौत के बाद, उसके आतंक से भयभीत व्यापारियों ने बनारस पुलिस को दिल से शुक्रिया जरूर किया होगा।  

मनोरंजन