MENU
Breaking News
Breaking News Live T.V.

पूर्वांचल

चंदौली

सरकार की योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए पीआईब

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) वाराणसी के तत्वावधान में चंदौली जिले के पं. दीनदयाल उपाध्याय नगर स्थित नगरपालिका इंटर कॉलेज के वीर अब्दुल हमीद सभागार में ग्रामीण क्षेत्र के पत्रकारों और भारत सरकार के बीच संवाद स्थापित करने के उद्देश्य से वार्तालाप का आयोजन बुधवार को किया गया। इस कार्यक्रम में जनपद के विभिन्न क्षेत्रों के 50 से अधिक पत्रकारों ने हिस्सा लिया। कार्यशाला का विधिवत शुभारंभ मुगलसराय विधायक साधना सिंह, प्रोफेसर अनिल यादव, भाजपा के चंदौली मीडिया प्रभारी बतौर सांसद प्रतिनिधि हरबंश उपाध्याय व शिवराज सिंह द्वारा दीप प्रज्वलन से हुआ। बतौर मुख्य अतिथि कार्यशाला को संबोधित करते हुए साधना सिंह ने कहा कि मीडिया राजनीतिज्ञों की प्राण है। ईश्वर उसे इतना बल प्रदान करे कि वह निर्भयता पूर्वक सच्ची व अच्छी पत्रकारिता कर सकें। उन्होंने सरकार की योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने में मीडिया की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया। मंडल वाणिज्य प्रबंधक पूर्व मध्य रेलवे डीडीयू धीरज कुमार ने रेलवे की उपयोगिता बताते हुए कहा कोरोना काल में रेलवे ने नागरिकों को यातायात सहित भोजन चिकित्सा व अन्य समस्याओं का प्रबंधन सुव्यवस्थित रूप से किया। भाजपा के जिला मीडिया प्रभारी हरबंश उपाध्याय ने पीआईबी को धन्यवाद देते हुए कहा कि जनकल्याणकारी कार्यक्रमों की सूचना मीडिया तक पहुंचाने में संस्था सेतु के रूप में कार्य करती है। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. आर.बी शरण ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण काल में स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं को संस्था ने जन -जन तक पहुंचाने के लिए मीडिया को सूचनाओं का आदान-प्रदान बखूबी रूप से किया। जिला सूचना अधिकारी डा. एस.एन पाल ने कहा सरकार जनता की बेहतरी के लिए विभिन्न योजनाएं बनाती है और उन्हें जन-जन तक पहुंचाने का माध्यम संस्था बनती है। डा. अनिल यादव ने कहा कि संस्था के सहयोग से मीडिया तक पहुंचने वाली खबरें जनता तक पहुंचती है। जिसका लाभ जनता को मिलता है। वरिष्ठ पत्रकार पवन तिवारी ने हिंदी पत्रकारिता में त्रुटियों का ध्यान रखने व शब्दों के चयन की जानकारी के लिए पत्रकार को जागरूक किया। चर्चा में संवाददाता श्वेता सिद्धिदात्री ने अपने उद्बोधन में प्रिंट मीडिया के क्षेत्र में महिलाओं की कमी की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि लोगों की सोच व संकुचित मानसिकता से महिलाएं इस क्षेत्र में आने से संकोच करती हैं। अब परिस्थितियां अनुकूल होने पर इस क्षेत्र में भी बड़ी संख्या में महिलाएं चुनौतीपूर्ण कार्य करते हुए सफलता की ओर अग्रसर हैं। पत्रकार कमलेश तिवारी ने मीडिया क्षेत्र में संवाददाताओं की परेशानी को बखूबी उकेरा। कहा कि संस्थाएं पत्रकारों का शोषण बंद कर दे तो सच्ची और अच्छी पत्रकारिता का संप्रेषण ठीक प्रकार से हो सकेगा। वरिष्ठ पत्रकार डा. दयानंद ने कहा कि पत्रकारिता के क्षेत्र में उसी व्यक्ति को आना चाहिए। जिसको भाषाई ज्ञान व सच लिखने का माद्दा हो। ग्रामीण पत्रकार एक बड़े आबादी को सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से जनता को रूबरू कराता है। ग्रामीण क्षेत्रों में पत्रकारिता एक बड़ी चुनौती है। वरिष्ठ पत्रकार निमेष ने इलेक्ट्रॉनिक और न्यू मीडिया पर प्रकाश डाला। मंच संचालन डीएफपी वाराणसी के एफपीओ डा. लालजी, मंत्रालय एवं पसूका के बारे में प्रस्तुतीकरण पत्र सूचना कार्यालय के मीडिया एवं संचार अधिकारी और कार्यक्रम के नोडल अधिकारी प्रशांत कक्कड़ और अतिथियों का स्वागत मनोज त्रिपाठी व राजीव गुप्ता ने किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में पसूका वाराणसी के सत्येंद्र कुमार, शिव कुमार झा, रमेश मिश्रा और रजत कुमार ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

 

मिर्ज़ापुर

अमर शहीद रवि सिंह के घर सांत्वना देने विनीत सिंह

जिला पंचायत से अमर शहीद द्वार एवं स्मारक बनवाने की घोषणा

बारामुला में आतंकियों से लोहा लेते हुए शहीद हुए रवि सिंह के जिगना स्थित गौरा गांव परिजनों को सांत्वना देने पूर्व एमएलसी श्याम नारायण सिंह उर्फ विनीत सिंह पहुंचे। उन्होंने अमर शहीद रवि सिंह की शहादत को नमन किया। इस मौके पर उन्होंने जिला पंचायत की तरफ से अमर शहीद रवि सिंह के याद में मनकठा गौरा मार्ग पर अमर शहीद के नाम पर एक गेट तथा शहीद के अंत्येष्टि स्थल पर रामलीला मैदान में एक स्मारक भवन एवं मूर्ति लगवाने की घोषणा कि। इसके साथ ही मनकठा गौरा संपर्क मार्ग की टूटी सड़क को भी जिला पंचायत से मरम्मत करवाने की बात की।गौरतलब हो कि इस मौके पर उन्होंने जिला पंचायत के जेई को तुरंत प्राक्कलन बनाकर जल्द से जल्द उक्त कार्य को शुरू करवाने का निर्देश भी दिया ।साथ ही दोनों स्थानों पर लोगों के साथ जाकर स्थलीय निरीक्षण भी किया। पूर्व एमएलसी विनीत सिंह ने कहा कि अमर शहीद रवि सिंह जी के लिए जितना भी किया जाए कम है। उनकी शहादत पर पूरे देश पर गर्व है। इस मौके पर उनके साथ जिला पंचायत सदस्य वसीम अहमद जिला पंचायत सदस्य सुरेश बिंद संजय सिंह गहरवार आयुष सिंह आदि लोग भी उपस्थित थे।

 

जौनपुर

विकसित गाँव देश की धरोहर : चंद्रशेखर सिंह चौहान,

जौनपुर जलालपुर  विकसित गाँव से ही विकसित जनपद एवं विकसित जनपद से ही विकसित देश की कल्पना की जा सकती है ऐसा कहना है मकरा गाँव के प्रधान पद प्रत्याशी चंदशेखर सिंह चौहान का जिन्होंने  गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर समस्त  क्षेत्रवासियों एवं  ग्राम वासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं  देते हुए  कहा कि इस बार जनता ने उन्हें मौका दिया तो वे उनकी हर बातो पर खरा उतरने की कोशिश करेंगे एव गाँव मे लिंक हर रोड एवं खड़ंजों का पुनर्निर्माण कराते हुए गाँव का सम्पूर्ण विकास ही उनकी प्रथम प्राथमिकता होगी।

इलाहाबाद

यूपी बार कौंसिल चेयरमैन के दिए गए बयान पर इलाहाबाद

इलाहाबाद मेरठ की दुरी ज्यादा है अगर मेरठ में नया बेंच खुलेगा तो आम जनता को फायदा होगा। हरिशंकर सिंह

एशिया के सबसे बड़े हाईकोर्ट, इलाहाबाद हाईकोर्ट में बेंच के बंटवारे को लेकर बीते कई सालों से विवाद चल रहा है।कभी चुनावी मौसम में राजनीतिक दलों द्वारा बेंच के बंटवारे की बात कही जाती है। तो कभी क्षेत्रीय अधिवक्ताओं द्वारा बांटने की मांग उठती रही है। वहीं एक बार फिर हाईकोर्ट के बेंच के बंटवारे की मांग के खिलाफ अधिवक्ता सड़क पर उतर आए हैं।

लंबे समय से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में हाई कोर्ट की बेंच बनाए जाने की मांग उठ रही है। जिसका विरोध इलाहाबाद उच्च न्यायालय के अधिवक्ताओं द्वारा किया जाता रहा है। अभी भी लगातार इलाहाबाद उच्च न्यायालय के अधिवक्ता इस बात पर अड़े हुए हैं कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय कि अन्य और कोई बेंच नहीं बनाई जानी चाहिए। इस मुद्दे पर राजनीति भी खूब जम के होती है। मौजूदा यूपी बार काउंसिल अध्यक्ष हरिशंकर सिंह के दिए गए बयान पर इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ता बार के अध्यक्ष के खिलाफ ही आवाज बुलंद कर रहे हैं।

गौरतलब है कि बीते दिनों एक बयान में यूपी बार के अध्यक्ष हरिशंकर सिंह ने पश्चिमी यूपी में बेंच बनाये जाने का समर्थन करते हुए बयान दिया कि कोर्ट की एक और बेंच होनी चाहिए। उनके इस बयान पर इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ताओं ने भयंकर आक्रोश देखने को मिल रहा है। इलाहाबाद हाईकोर्ट के नाराज अधिवक्ताओं ने अध्यक्ष हरिशंकर सिंह के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और उनका पुतला हाईकोर्ट के बाहर जलाया और मांग करते हुए कहा कि हरिशंकर सिंह अपने दिए गए बयान को वह वापस लें माफी मांगे।

बेंच बनाना राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री का क्षेत्राधिकार है ना कि यूपी बार कौंसिल का, मिडिया के पुछे गयें सवाल पर कहा बेंच खुलने से हमें कोई परेशानी नहीं

क्लाउन टाइम्स ने जब उत्तर प्रदेश बार कौंसिल के अध्यक्ष हरिशंकर सिंह से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि पिछले दिनों मैं मेरठ में वकीलों की अनुशासन समिति की सुनवाई करने के लिए गया था तो वहां पर मौजूद मीडिया द्वारा पूछे गए सवाल में कि उत्तर प्रदेश में नया बेंच खुल जाए तो आपको क्या परेशानी है। हमने कहा हमें कोई परेशानी नहीं है क्योंकि यह काम तो राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के क्षेत्राधिकार का है ना कि उत्तर प्रदेश बार कौंसिल के चेयरमैन के क्षेत्राधिकार का। मिडिया ने कहा कि इलाहाबाद और मेरठ की दुरी बहुत है। तो मैंने कहा अच्छी तो बात है यहां नया बेंच खुल जायेगा तो आम जनता को सहायता मिलेगी। हमने तो आम जनता के हित की बात कहीं है। अगर कोई विरोध कर रहा है तो मैं क्या करूं।

अपना प्रदेश

देश/विदेश

खेल

तीन दिवसीय अनकामन जिला स्तरीय कैरम प्रतियोगिता का

वाराणसी जिला कैरम एसोसिएशन और जीवनदीप चैरिटेबल ट्रस्ट के तत्वावधान में सिंह निकेतन मलदहिया में आज से शुरू तीन दिवसीय अनकामन जिला स्तरीय कैरम प्रतियोगिता के पहले दिन आज खेले गये पुरुष वर्ग के एकल मुकाबले मे व्योम प्रकाश मानव ने सफेद सेंचुरी के साथ जमुनाधर गुप्ता को 25=9,25=13 से हराकर अन्तिम आठ में प्रवेश किया तो वहीं महिला युगल में अंजली और मन्तसा ने कामना और तूलिका की जोड़ी को 25=9,23=12 से पराजित कर फाईनल में प्रवेश किया । आज खेले गये पुरुष वर्ग के अन्य एकल मैचों में अशोक कुमार सिंह ने रिषभ कुमार को 25=025=5 से, शिवदयाल यादव ने विनोद यादव को 15=16,25=3 और 21=11 से , अश्वनी मोर्या ने प्रियान्शू को 25=16,23=7 से , प्रभुदयाल यादव ने सूरज प्रसाद को 20=025=13 से, और कृष्णदयाल यादव ने नूरैन खान को 17=25,25=2 और 25=17 से हराकर अन्तिम आठ में प्रवेश किया तो वहीं महिला वर्ग के एकल मुकाबले में में रिषिता केशरी ने दीपाली यादव को 24=13, 25,17 से पराजित कर अन्तिम आठ में प्रवेश किया । इससे पूर्व प्रयोगिता का भब्य उद्घाटन आल इंडिया कैरम फेडरेशन के एसोसिएट वाइस प्रेसिडेंट और जीवनदीप शिक्षण संस्थान के चेयरमैन डाक्टर अशोक सिंह ने कैरम बोर्ड पर स्ट्राइक करने बाद समारोह को सम्बोधित करते हुये कहा कि कैरम खेल और खिलाड़ियों की उन्नति एवं विकास के लिये वाराणसी कैरम एसोसिएशन जिस तरह दशकों से लगातार सक्रिय है उसकी जितनी प्रसन्शा की जाये वह कम है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते उत्तर प्रदेश कैरम एसोसिएशन के अध्यक्ष बैजनाथ सिंह ने कहा कि एक साल के बाद ये फिजिकल प्रतियोगिता सभ्भव हो पाई है जिसके पूर्ण होने मे जीवनदीप चैरिटेबल ट्रस्ट का बहुत बड़ा सहयोग है । यदि सब कुछ ठीक रहा तो जून महीने के मध्य में वाराणसी कैरम एसोसिएशन, जीवनदीप शिक्षण संस्थान और उत्तर प्रदेश कैरम एसोसिएशन को फिर एक और नेशनल प्रतियोगिता की मेजबानी मिल सकती है। अतिथियों का स्वागत आयोजन सचिव अश्वनी चक्रवाल और मैचों का संयोजन इन्टरनेशनल रेफरी रमेश वर्मा ने और धन्यवाद ज्ञापन जिला कैरम एसोसिएशन के अध्यक्ष विजयशंकर मेहता ने किया, प्रतियोगिता की नियमावली तथा तकनीकी दिशा निर्देश टूर्नामेंट के चीफ रेफरी सरदार रणबीर सिंह ने दिया । इस अवसर पर छावनी परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष शैलेन्द्र सिंह, जिला कैरम एसोसिएशन के उपाध्यक्ष अशोक कुमार पाण्डेय सहित एस.के.श्रीवास्तव, रवि आर्या, अभिषेक विश्वकर्मा, सन्दीप यादव ,ब्योम प्रकाश मानव, विनोद यादव , गौरव गुप्ता सुमन गिनोडिया आदि सहित तमाम कैरम खिलाड़ी उपस्थित रहे ।  

राजनीति

वर्तमान परिवेश में बदहाली की पर्याय बन चुकी है भाज

महानगर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राघवेंद्र चौबे ने कहा की वर्तमान परिवेश में बदहाली की पर्याय बन चुकी है भाजपा सरकार।इस सरकार में लोगों की जान की कोई कीमत नहीं है। सरकारी निकम्मेपन की वजह से वाराणसी में स्वास्थ्य सेवाओं की हालत बद-से-बदतर होती जा रही है।कोरोना संक्रमण से हुई मौतों का कोई आंकड़ा उपलब्ध नहीं है।कोरोना महामारी से बचाव के लिए बतौर रक्षा कवच प्रचारित टीकाकरण अभियान सुस्त पड़ गया है टीकाकरण में बदहाली जनता के सामने है। टीके की कमी से कई टीकाकरण केन्द्र बन्द हो गए हैं व कई स्वास्थ केंद्र बदहाली के कारण बन्द है।अस्पतालों में इलाज की व्यवस्था चरमराई हुई है। एम्बूलेंस सेवा के कर्मचारी हड़ताल पर हैं,मरीजों की जान खतरे में है।प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में मरीज को लोग ट्राली रिक्शा पर ले जानो को मजबूर है।जनता की जिंदगी भगवान भरोसे चल रही है।पूरे काशी की सीवर व्यवस्था ध्वस्त हो गई है एक बरसात के बाद सड़को पर पानी का अंबार बहता है।जमीनी रूप से बदहाली का पर्याय बन चुकी है काशी।कल कारखानों से लेकर बंदरगाह तक बन्द पड़े है।माँ गंगा के समानान्तर एक नहर बनाकर माँ गंगा की धारा को खत्म करने का प्रयास इस जनविरोधी सरकार द्वारा किया जा रहा है।पूरा काशी अपराध की दहशत में जी रहा है एक के बाद एक आपराधिक घटनाओं से आमजनों की सांसे सांसत में है।लूट,हत्या,महिलाओं पर अत्याचार काशी में आम बात हो गया है।शासन झूठे आकड़ो में स्वम् की वाहवाही लूटने में कोई कसर नही छोड़ रही है।वही जमीनी आंकड़े अत्यंत पीड़ादायक है। इस सरकार में किसानों के बाद नौजवानों के साथ भी धोखा किया है।खुद सरकारी आंकड़ों के अनुसार देश-प्रदेश में बेरोजगारी की दर के रिकार्ड टूट चुके हैं।बेरोजगारी के इस दौर में स्वम् प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में हजारों नौकरियां बांटने का तमाशा हो रहा है जबकि आए दिन नौजवान धरना-प्रदर्शन कर रहे है और पुलिस उन पर लाठियां बरसा रही है। शासन-प्रशासन उनकी बात सुनना नहीं चाहता। काशी में विकास के नाम पर जनता को छला गया है। इस जनविरोधी सरकार का अंत आगामी 2022 के चुनाव में तय है और प्रदेश व काशी की जनता अब प्रियंका गाँधी जी के नेतृत्व में बदलाव के लिए तैयार है,जिसका विगुल आगामी 9 अगस्त अगस्त क्रंति के अवसर पर पूरे प्रदेश में हर वार्डो,न्याय पंचायतो,में अंतर्गत कमेटी द्वारा ब्यापक स्तर पर पद यात्रा व प्रदर्शन किया जाना है, वाराणसी की शहर की तीनों विधानसभा में क्रमश 9 अगस्त दछिणी विधानसभा,10 अगस्त को कैंट विधानसभा व 11 अगस्त को उत्तरी विधानसभा के वार्डो में किसान आंदोलन के समर्थन में व बेरोजगारी, महगाई के खिलाफ पद यात्रा निकाल कर प्रदर्शन किया जायेगा।।  

जुर्म

विक्की हत्याकांड के पीछे क्‍या है बिल्डर आमीर अहमद

पंजाब केशरी का पत्रकार विपिन मिश्रा क्‍यों है बिल्डरों के निशाने पर प्रधानमंत्री मोदी के स्‍मार्ट सिटी बनारस में वाराणसी विकास प्राधिकरण के आला अधिकारियों के लाख प्रयास के बावजूद थाना चौके और कोतवाली क्षेत्र की सकरी गलियों में दर्जनों बिल्‍डर धड़ल्‍ले से अवैध रुप से व्‍यवसायिक भवनों का निर्माण करने में जुटे हैं। क्‍यों कि इन्‍हें वीडीए के क्षेत्रीय जिम्‍मेदार अधिकारियों का पूरा सहयोग मिलता है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इन अवैध बिल्‍डरों को व्‍यवसायिक निर्माण को जारी रखने के लिए वीडीए के जिम्‍मेदार अधिकारियों को प्रत्‍येक तल के निर्माण के बदले सुविधा शुल्‍क तय हो जाता है। मजे की बात है कि कम पूंजी और निर्धारित समय में ही व्‍यवसायिक भवनों का निर्माण शुरू होते ही खरीदारों की बुकिंग  के लिये अग्रिम धनराशि भी दुकानदार बिल्‍डर को जमा करने में कोई गुरेज नहीं करते। यही कारण है कि कोई भी बिल्‍डर साल- छ: महीनें में ही लाखों रुपये की अवैध कमाई का धंधा फल-फूल रहा है। इस अवैध कारोबार को बेरोक-टोक जारी रखने के लिए दबंग बिल्‍डरों के साथ उस क्षेत्र के जरायम की दुनिया से जुड़े बदमाशों को भी गठजोड़ उनकी मजबूरी है। यहां तक तो गलिमत थी लेकिन इन दिनों दालमंडी, कोयला बाजार, कोतवाली क्षेत्र के कई ऐसे कथित पत्रकारों के निशाने पर अवैध बिल्‍डर आ गये है। लिहाजा पहले उनके खिलाफ सोशल मिडिया पर खबरें प्रसारित कर उन्‍हें अधिकारियों के व्‍हाट्सएप पर भेज कर डिस्‍टर्ब करना और बाद में उन्‍हें अर्दब में लेकर वीडीए के अधिकारियों और पुलिस के नाम पर वसूली करने का धंधा जोरों पर है।     पत्रकार ने मिलन के नामपर दवा कारोबारी से खाली कराई दुकान ताजा मामला वाराणसी के थाना चौक अंतर्गत ठठेरी बाजार स्थित रसवन्‍ती मिठाई की दुकान के समीप जोगिन्‍दर कपूर के मकान का व्‍यवसायिक निर्माण कराने का ठेका आज से लगभग ढाई वर्ष पूर्व दालमंडी - बेनिया क्षेत्र के बिल्‍डर आमिर अहमद को लगभग साढ़े सात लाख में दिया गया। ऐसी चर्चा है कि इसमें मध्‍यथ की भूमिका निभाने वाले पंजाब केशरी डिजिटल मीडिया के रिपोर्ट विपिन मिश्रा और उनके भाई आशीष मिश्रा व इनके भांजे विक्‍की ने निर्माण शुरु होने से पहले ही ढाई लाख रुपये विपिन के भाई आशीष ने अपने पास रख लिया।  सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बाद में इस भवन निर्माण का ठेका विक्‍की की पहल से सप्‍तसागर क्षेत्र के एक चर्चित व्‍यक्ति के साथ मिल कर पत्रकार विपिन ने अपने नाम एग्रीमेंट कराकर शुरू कर दिया।  इसी बीच मकान मालिक जोगिन्‍द कपूर के मकान में एक दवा कारोबारी की दुकान निर्माण में रोड़ा बन रही थी, जिसे पत्रकार विपिन ने चौक क्षेत्र के चर्चित अपराधी मिलन बिज के नाम पर खाली करा लिया। इसकी भनक लगते ही मिलन ने विपिन को बुलाकर उसे कड़े अंदाज में समझाया और उपरोक्‍त भवन में अपनी भूमिका जोड़ने की गरज से आगे भी आ गया, लेकिन मामला बना नहीं। मुगलसराय पुलिस और क्राइमब्रांच टीम ने विक्की हत्याकांड के आरोपितों को धरदबोचा बिल्डर, दबंग और पत्रकारिता की धमक के इन नेक्सेस के चलते चलते 19 जुलाई की रात जिला चंदौली के थाना मुगलसराय के डांडी में चौक क्षेत्र के विपिन मिश्रा पत्रकार के भांजे विक्की को अपराधियों ने ईट पत्थर से कूच कर मार डाला। इस पूरे मामले में थानाध्यक्ष मुगलसराय राजीव रंजन उपाध्याय और क्राइम ब्रांच प्रभारी राजीव सिंह की टीम ने वांछित अभियुक्तों मिलन बिज, रोशन उपाध्याय, अमित उर्फ गोलू को गिरफ्तार करने में बड़ी कामयाबी हासिल किया है। एक दशक बाद पत्नी बच्चों के साथ घर वापस आया था मिलन सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आज से ढाई वर्ष पूर्व चौक क्षेत्र चर्चित रहे जरायम की दुनिया से तालुकात रखने वाले मिलन बिज अपने बीबी बच्चों के साथ पुश्तैनी मकान आ गया और साड़ी के व्यवसाय में बड़े भाई का हाथ बटाने लगा था। इसी बीच ठठेरी बाजार के जोगेंद्र कपूर ने रसवंती के सामने 70 लाख में मकान खरीदा था। विक्की मकान-मालिक का विश्वासपात्र होनें के चलते उसने विपिन मिश्रा को जोड़ दिया था। इसी मकान में एक दवा कारोबारी की दुकान खाली कराने के लिए चौक क्षेत्र के चर्चित मिलन बिज के नाम पर 2 वर्ष पहले दुकान खाली कराया था। जब इस पूरे मामले की भनक विक्की को हुई तो उसने पत्रकार विपिन मिश्रा को बुलाकर डांटा, लेकिन पत्रकार विपिन ने मिलन से अपना संबंध काफी मजबूत बना लिया, क्योंकि उसे इस तरह के विवादित मकानों के लफड़े से कम समय में अधिक धन कमाने की लालच आ गई थी। मजे की बात है की मिलन के नाम पर हो रहे सौदेबाजी में उसे दूर रखा गया और मकान मालिक के द्वारा साढ़े सात लाख रुपये दिए जाने के बाद भी जब आमिर बिल्डर ने निर्माण कार्य शुरू नहीं किया तो मकान मालिक को इस बात का भ्रम हुआ की निर्माण की जिम्मेदारी मिलन ने लिया है, लिहाजा उसने तगादा किया। इसके बाद मिलन ने एक बार फिर विपिन उसके भाई आशीष और विक्की तीनों ने मिलन को इस बात के लिए राजी करने का प्रयास किया कि वह आमिर बिल्डर से 5 लाख वापस मांग कर दे। क्योंकि इन सभी के रिश्ते काफी मधुर थे। एक ओर पत्रकार विपिन मिश्रा के पत्रकारिता की हनक के चलते पुलिस महकमे में अच्छी पैठ और दूसरी ओर दबंग मिलन से मधुर रिश्ते होने के चलते सभी के बीच में काफी अच्छे संबंध थे।  मिलन को शक है कि बजरे पर सैर की फोटो विपिन ने पुलिस को भेजा खबर है कि एक दिन मिलन, रोशन उपाध्याय, अमित उर्फ गोलू, विपिन मिश्रा सभी बजरे पर सवार होकर दशाश्वमेध घाट पर घूमने का प्लान बनाया। मिलन को इस बात की आशंका है कि विपिन मिश्रा ने मौका देखकर इसकी फोटो क्लिक करके थानाध्यक्ष चौक को भेज दिया। इसके पश्चात चौक थाने की पुलिस सक्रिय हो गई और चौकी इंचार्ज ब्रह्मणाल सुमन यादव मिलन के घर पहुंच गई। इंस्पेक्टर साहब ने मिलन बिज को बुलाकर कहा कि रोज थाने आकर हाजिरी देना है और पुलिस भी उस पर निगरानी करने के लिए उसके घर और प्रतिष्ठान पर पुलिस पहुंचने लगी। इसी शक के आधार पर मिलन ने विपिन मिश्रा को डाटा कि उसके खिलाफ पुलिस में मुखबिरी न करने की हिदायत दिया, क्योंकि मिलन जरायम की दुनिया से काफी नजदीकियां रही हैं लिहाजा पुलिस ने उस पर गुंडा एक्ट की कार्रवाई भी कर दिया। विपिन ने मिलन पर आमिर बिल्डर में 5 लाख एडवांस वापस मांगने के लिए बनाया था दबाव पत्रकार विपिन मिश्रा मिलन पर इस बात का दबाव बनाने लगा कि वह आमिर बिल्डर से किसी प्रकार भवन निर्माण के लिए एडवांस में दिया गया 5 लाख रुपये वापस लेने के लिए दबाव बनाने लगा। किंतु आमिर बिल्डर निर्माण के लिए तो तैयार था लेकिन रुपया वापस करने को कतई तैयार नहीं था, बल्कि एक हफ्ते काम भी कराया था। बदले में मिलन को उसने कुछ धनराशि देने का वादा भी किया था पर बात नहीं बनी। मिलन को इस बात की नाराजगी थी कि उसके नाम पर पूरा खेल हो रहा था और पत्रकार विपिन, विक्की की पहल से सप्तसागर के एक बिल्डर के साथ मिलकर निर्माण का एग्रीमेंट हो गया और निर्माण पूरा भी हो गया। मिलन को लगा कि उसके सामने का निवाला छीनने में सबसे अहम भूमिका पत्रकार विपिन मिश्रा, उसका भाई आशीष और भांजे विक्की ने ही निभाई है। कोतवाली क्षेत्र के ओम भोजनालय में दारू और भोजन के बाद मुगलसराय के डांडी में हुई विक्की की हत्या चर्चा है कि विक्की की हत्या से पूर्व वाराणसी के थाना कोतवाली अंतर्गत ओम भोजनालय में अमित उर्फ गोलू मिश्रा, विपिन मिश्रा, रोशन उपाध्याय, विक्की, मिलन सभी ने जमकर दारू पिया और खाना खाया, तबतक रात्रि लगभग 10:30 बज चुके थे। लेकिन दारू का कोटा समाप्त होनें के चलते नशा मदहोश करने लायक नहीं था। लिहाजा सभी दो मोटरसाइकिल पर सवाल र होकर बनारस किस शरहद छोड़कर पड़ाव होते हुए चंदौली जिले की सीमा में प्रवेश कर लिया। इस बीच पत्रकार विपिन मिश्रा वहाँ से खिसक लिया। कोतवाली क्षेत्र की सारी गतिविधियां सीसीटीवी कैमरे में कैद है जिसे पुलिस अपने कस्टडी में ले लिया है। मिलन, रोशन, अमित, विक्की सभी पड़ाव पहुंचे इसी बीच नशे की हालत में विक्की पिकेट के सिपाही से उलझ गया और अपने मामा पत्रकार विपिन के नाम पर पत्रकारिता की धौस जमाने लगा। किसी प्रकार मिलन और उसके साथियों हैं उसे वहां से हटाया। इसके बाद सभी रूद्र अपार्टमेंट होते हुए डांडी की ओर बढ़ गए, जहां सभी आपस में भीड़ गए और इसी मारपीट में विक्की की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। कहते हैं ना कि कानून के हाथ काफी लम्बे होते हैं, जिसका परिणाम रहा कि मुगलसराय पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीमों के पूरी घटना क्रम की कड़ियों को जोड़कर आखिरकार सभी आरोपितों को धरदबोचने में बड़ी कामयाबी हासिल किया।

मनोरंजन